अंजुम रहबर की शायरी - Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira


रोज़ मिलना मिलाना नही चाहिए - अंजुम रहबर की शायरी - Top Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira

Top Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira

प्यार नज़रो में आना नही चाहिए,
रोज़ मिलना मिलाना नही चाहिए,

लोग पागल समझने लगेंगे तुम्हे,
रात दिन मुस्कुराना नही चाहिए,

बारिशों के इरादे खतरनाख है,
अब पतंगे उड़ाना नहीं चाहिए...

मेने ये सोच कर दे दिया दिल उसे,
दिल किसीका दुखाना नहीं चाहिए...

एक कमले में अंजुम कटे जिंदगी,
हर जगह गुल खिलाना नहीं चाहिए....

रोज़ मिलना मिलाना नहीं चाहिए....

Post a Comment

ऑथर के बारे में

नमस्कार बेस्टर्स, मेरा नाम विवेक दरजी है, और यहापे में कुछ शायरियां, कविताएं, सुविचार और वार्ताएं लिखता हूं जो में हिंदी में ही लिखता हूं, और ये ब्लॉग मेने 3 साल पहले बनाया है और ये मेरा पहला ब्लॉग है।