अंजुम रहबर की शायरी - Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira


रोज़ मिलना मिलाना नही चाहिए - अंजुम रहबर की शायरी - Top Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira

Top Anjum Rahbar Poem In Hindi Lyrics | Shayari Mushaira

प्यार नज़रो में आना नही चाहिए,
रोज़ मिलना मिलाना नही चाहिए,

लोग पागल समझने लगेंगे तुम्हे,
रात दिन मुस्कुराना नही चाहिए,

बारिशों के इरादे खतरनाख है,
अब पतंगे उड़ाना नहीं चाहिए...

मेने ये सोच कर दे दिया दिल उसे,
दिल किसीका दुखाना नहीं चाहिए...

एक कमले में अंजुम कटे जिंदगी,
हर जगह गुल खिलाना नहीं चाहिए....

रोज़ मिलना मिलाना नहीं चाहिए....
  1. very nice post sir
    thanks for this news
    love you sir
    thanks a lot for it

    ReplyDelete