यारो के लिए हर एक लफ्ज़ कम पड़ जायेगा - यारों के लिए एक शायरी


मेरे यारों के लिए हर एक लफ्ज़ कम पड़ जायेगा,
अगर लिख भी दूँ उनके लिए दो-चार शब्द, तो मेरे यारों के साथ मेरा ये वक्त कम पड़ जायेगा।

Post a Comment

ऑथर के बारे में

नमस्कार बेस्टर्स, मेरा नाम विवेक दरजी है, और यहापे में कुछ शायरियां, कविताएं, सुविचार और वार्ताएं लिखता हूं जो में हिंदी में ही लिखता हूं, और ये ब्लॉग मेने 3 साल पहले बनाया है और ये मेरा पहला ब्लॉग है।