सताते है अब बहोत पता नही बात करने आते क्यों नही - Best Hindi Poem


Sataate he ab bahot pata nahi baat karne aate kyu nahi...
Pehli hi nazar mili thi unse Lekin
Pata nahi ab Nazro me aate kyu nahi,
Kabhi Ro padti he Aankhe bhi Ye Dekhke,
 lekin pata nahi ab Nazro me paani aate kyu nahi...
Dil to bada unke liye dilwaan ban jaata he lekin pataa nahi ab wo dil waapis karne aate kyu nahi...#vSB

Best Hindi Poem - आते क्यों नही...

सताते है अब बहोत पता नही बात करने आते क्यों नही,
पहली ही नज़र मिली थी उनसे लेकिन पता नही अब नज़रो में आते क्यों नही,
कभी रो पड़ती है आंखे भी ये देखके लेकिन पता नही अब नज़रो में पानी आते क्यों नही,
दिल तो बड़ा उनके लिए दिलवान बन जाता है लेकिन पता नही अब वो दिल वापस करने आते क्यों नही...#vSB

Post a Comment

ऑथर के बारे में

नमस्कार बेस्टर्स, मेरा नाम विवेक दरजी है, और यहापे में कुछ शायरियां, कविताएं, सुविचार और वार्ताएं लिखता हूं जो में हिंदी में ही लिखता हूं, और ये ब्लॉग मेने 3 साल पहले बनाया है और ये मेरा पहला ब्लॉग है।